कैसे लगाए जाएंगे एक लाख किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्गों के दोनों ओर हरे भरे वृक्ष?

तीन दिन की संगोष्ठी में विशेषज्ञ करेंगे विचार विमर्ष

national-highway-1

आरएनआई न्यूज़ः

nitingadkariनैशनल ग्रीन हाईवेज़ मिशन – एनजीएचएम- को देश के एक लाख किलोमीटर लंबे राष्ट्रीय राजमार्गों के दोनों ओर वृक्षारोपण का नियोजन, क्रियान्वन और निगरानी का कार्य सोंपा गया है। इस कार्य का प्रभावी ढंग से संचालन करने के लिए एनजीएचएम विश्व के अन्य भागों में हो रहे अनुसंधान और परीक्षण को समझकर उन्हें देश की परिस्थितियों के अनुकूल ढालने और पायलट प्रोजेक्ट बनाकर उनको लागू करने का इच्छुक है ताकि इनको बड़े पैमाने पर लागू किया जा सके। इस संदर्भ में एनजीएचएम दिल्ली में वसंत कुंज स्थित मध्यांचल में सात नवम्बर से एक तीन दिवसीय संगोष्ठी आयोजित करने जा रहा है जिसमें विभिन्न संबंधित क्षेत्रों से जुड़े विशेषज्ञ अपने विचार रखेंगे।

नैशनल ग्रीन हाईवेज़ मिशन – एनजीएचएम – को भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण – एनएचएआई – के तहत सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा स्थापित किया गया है जिसका मक़सद राष्ट्रीय राजमार्गों के दोनों ओर हरित गलियारे विकसित करना है ताकि प्रदूषण रहित पर्यायवरण और समावेशी विकास सुनिश्चित किया जा सके।

newlogoसंगोष्ठी के उद्घाटन सत्र में सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री श्री नितिन गडकरी मुख्य अतिथि होंगे। डाक्टर ए के भट्टाचार्य – मिशन डायरेक्टर नैशनल ग्रीन हाईवेज़ मिशन, श्री राघव चंद्र – अध्यक्ष एनएचएआई, श्री विजय छिब्बर – पूर्व सचिव सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय, श्री सी के वार्षनेय – पूर्व प्रोफैसर एवं डीन जेएनयू, श्री एपी फ्रैंक नोरोंहा – महानिदेशक पीआईबी, डाक्टर हैंस फ्रेडरिच – आईएनबीएआर, चीन और अनुज शर्मा – उपमहानिदेशक एनजीएचएम उद्घाटन सत्र में अपने विचार रखेंगे। इस मौक़े पर विश्व बैंक, आईटीसी, यस बैंक, आईएनबीएआर और टेरी के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर होंगें।

तीन दिवसीय संगोष्ठी का उद्देश्य एनजीएचएम की देखरेख में सैन्टर फार इनोवेशन्स इन ग्रीन पाथवेज़ (Centre For Innovations in Green Pathways) के नाम से एक ज्ञान केन्द्र स्थापित करने का है जो राष्ट्रीय राजमार्गों को हरा भरा बनाने हेतु अनुसंधान, नवाचार, प्रशिक्षण और क्षमता निमार्ण कार्यक्रमों का कार्यान्वयन और प्रचार प्रसार करेगा। विभिन्न तकनीकी सत्र इसी उद्देश्य से रखे गये हैं ताकि संबंधित क्षेत्रों के विशेषज्ञ अपने विचार रख सकें।

कायक्रर्म का आयोजन आउटलुक पत्रिका द्वारा किया जा रहा है।

 

image_pdfimage_print

About admin