अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय द्वारा 5 विश्वस्तरीय विश्वविद्यालयों और 100 स्कूलों की शीघ्र स्थापना हेतु तैयार किया जा रहा रोडमैपः शाकिर अंसारी

मोहम्मद शाकिर अंसारी

अल्पसंख्यक मामलों के केंद्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री मुख़्तार अब्बास नक़वी की अगुवाई में 5 विश्वस्तरीय विश्वविद्यालयों और 100 विद्यालयों की शीघ्र स्थापना हेतु रोडमैप तैयार किया जा रहा है। इस संबंध में मंत्रालय में कई उच्च स्तरीय बैठकें आयोजित की गई हैं और योजना को कार्यान्वयन हेतु आगे बढ़ाने की तैयारी है। यह जानकारी इसी संबंध में आयोजित एक उच्च स्तरीय बैठक से बाहर आते हुए मौलाना आज़ाद शिक्षा फाउंडेशन के कोषाध्यक्ष मोहम्मद शाकिर अंसारी ने दी। बैठक को श्री मुख़्तार अब्बास नक़वी ने संबोधित किया।

अंसारी ने बताया कि केंद्रीय विद्यालयों की तर्ज़ पर देश के विभिन्न शहरों में खोले जा रहे स्कूलों का नाम मौलाना आज़ाद के नाम पर रखा जाएगा। इसके अतिरिक्त पांच विश्वस्तरीय विश्वविद्यालय भी खोले जा रहे हैं जो आधुनिक संस्थानों की तर्ज़ पर तमाम कोर्स की शिक्षा प्रदान करेंगे। आने वाले समय में यह संस्थानें उच्च स्तरीय शिक्षा देंगे और अल्पसंख्यक युवकों को तकनीकी शिक्षा देने में बड़ा रोल अदा करेंगे, अंसारी ने बताया।

इस मामले में नवीनतम जानकारी प्रदान करते हुए शाकिर अंसारी ने बताया कि श्री मुख़्तार अब्बास नक़वी विश्वविद्यालयों और स्कूलों की स्थापना के कार्यक्रम में गहन रूचि ले रहे हैं और उत्सुक हैं कि यह परियोजना शीघ्र से शीघ्र कार्यान्वित हो सके।

अंसारी ने देश के अधिकाधिक युवकों को रोज़गार के क़ाबिल बनाने हेतु चलाई जा रही मोदी सरकार की प्रधानमंत्री कौशल विकास प्रशिक्षण स्कीम को मदरसों से जोड़ने की श्री मुख़्तार अब्बास नक़वी की कोशिशों की प्रशंसा की। इस विषय पर हाल में हुई एक मीटिंग का हवाला देते हुए अंसारी ने बताया कि अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री श्री मुख़्तार अब्बास नक़वी ने मदरसों को लेकर एक उच्च स्तरीय मीटिंग तलब की थी और इस कार्य हेतु उनके महकमे मौलाना आज़ाद शिक्षा फाउंडेशन में एक कमेटी भी बनाई गई है जिस के बाद देश भर के मदरसे बड़ी संख्या में इस स्कीम से जुड़ रहे हैं ताकि उनमें पढ़ने वाले बच्चों का भविष्य सुधर सके।

उन्होंने आगे क्हा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की इस प्रकार की जनप्रिय योजनाओं से जनता लाभान्वित हो रही है और इनका परिणाम महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, उत्तरखंड और अन्य राज्यों में मिली चुनावी जीत में देखा जा सकता है।

आरएनआई (रियल न्यूज़ इंटरनेश्नल) न्यूज़

image_pdfimage_print

About admin