‘‘मुसलमान भी विकास का भागीदार बनेंगे तो स्वयं ही राम मंदिर बनाने में मदद करेंगे’’

Lallu Singh, MP, Faizabad

Lallu Singh, MP, Faizabad

फैजाबाद से चुनकर आए नवनिर्वाचित सांसद दिला रहे हैं बहुमुखी विकास का भरोसा

 

आर एन आई/फैजाबादः

फैजाबाद से भाजपा के नवनिर्वाचित सांसद लल्लू सिंह के पास भी देश भर से चुनकर आए अन्य सांसदों के समान बधाईयों का सिलसिला जारी है। चुनाव में भारी मतों से जीत प्राप्त होने पर उनके फैजाबाद में सआदतगंज स्थित आवास पर निरंतर जश्न का माहौल है। कोई लड्डू और मिठाई ले कर रहा है तो कोई फूल मालाएं। भाजपा कार्यकत्र्ता खुशी से फूले नहीं समा रहे हैं। ऐसे में आर एन आई के अजीज हैदर ने उनसे बात की नरेंद्र मोदी के बारे में, जनता की बढ़ी अपेक्षाओं के बारे में, फैजाबाद से जुड़ी समस्याओं के बारे में और बहुतेरों के मन में जो प्रश्न है कि राम मंदिर पर अब भाजपा का रूख क्या होने वाला है उसके बारे में।

 फैजाबाद से नवनिर्वाचित सांसद लल्लू सिंह ने उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष निर्मल खत्री को भारी मतों से हराकर जीत दर्ज की। जनता का मानना है कि निर्मल खत्री ने पांच वर्षों में फैजाबाद के विकास पर अधिक ध्यान नहीं दिया। यही कारण है कि लल्लू सिंह की जीत को बड़ी जीत के रूप में देखा जा रहा है। साथ में आशाएं हैं, बेहतर कल की।

जीत प्राप्त करने के पश्चात लल्लू सिंह के लिए फैजाबाद में जगह जगह सम्मान समारोह रखे गए। जीत पाते ही लल्लू सिंह ने पहला कार्य जो किया वह हनुमानगढ़ी के गद्दीनशीन महंत रमेश दास के साथ अयोध्या में हनुमानगढ़ी पहुंचकर हनुमान के सामने मत्था टेका और प्रसाद ग्रहण किया। इस दौरान उन्होंने हनुमानगढ़ी के रमेश दास व अखाड़ा परिषद अध्यक्ष महंत ज्ञानदास से आशीर्वाद भी लिया।

विभिन्न सम्मान समारोहों में लल्लू सिंह ने क्हा कि यह विजय उन्हें कार्यकत्र्ताओं व शुभचिंतकों के परिश्रम से मिली है। यह जीत उनकी नहीं बल्कि जिले के लोगों की है। उन्होंने विश्वास दिलाया कि वह लोकसभा क्षेत्र को विकास की ऊंचाईयों पर ले जाने तथा जनता के दुःख दर्द में शामिल रहने का प्रयास करेंगे।

कांग्रेस एवं दूसरी क्षेत्रीय पार्टियों की नीतियों पर बात करते हुए लल्लू सिंह ने क्हा कि ‘‘कुल मिला कर देश की आजादी के बाद से पूरे देश में एक दूसरे को लड़ाने की जो वोट की राजनीति रही उससे समाज में आपसी दूरियां बढ़ी हैं। इतनी दूरी बढ़ गई है कि उसको ठीक मोदी जी ही कर सकते हैं। हम नीचे तब्के के मतदाताओं के बीच भी घूमते हैं जहां यह सब से अधिक देखने को मिलती है। यह देश के हित में नहीं हैं। यह इस देश में रहने वालों के हित में नहीं है, क्योंकि यह देश सबका है। सबको अमन चैन से रहने का अधिकार है। सबका विकास होना चाहिए। आज गरीबी है तो क्यों है। अगर अल्पसंख्यक का विकास नहीं हुआ तो जिम्मेदारी किस की है। भारतीय जनता पार्टी की तो है नहीं। शासन तो 60 साल कांग्रेस ने किया।’’

लल्लू सिंह का मानना है कि जब से भारतीय जनता पार्टी बनी है तब से इस प्रकार का वातावरण बनाया गया ताकि दूसरी पार्टियों को वोट मिलता रहे और वह सत्ता में बैठे रहें भले ही जो भी करें। यही कांग्रेस ने किया और यही क्षेत्रीय दल कर रहे हैं। समाज के विभिन्न वर्गों को इस का अहसास हो गया है और यही कारण है कि सबने एकजुटता दिखाई और मोदी के नाम पर वोट दिया। ‘‘क्योंकि तरक्की तो हर आदमी चाहता है।’’

लल्लू सिंह कहते हैं कि यही पार्टियां स्वयं दंगे को हवा देती हैं ताकि नाम भाजपा का लगा सकें। ‘‘फैजाबाद में दंगा हुआ तो इन लोगों ने आरोप लगाया कि लल्लू सिंह दंगा कराते हैं। हम पांच छह महिने से देख रहे हैं। पढ़े लिखे मुसलमान भी हकीकत जानते हैं। लेकिन उनकी संख्या कम है और जो कम पढ़े लिखे हैं वह उन पर हावी हैं। वह अधिक संख्या में हैं इसलिए पढ़े लिखे बोल नहीं सकते हैं। हम दंगा क्यों कराएंगे। हम तो उस सोच के आदमी हैं जो सबका सम्मान करते हैं।’’

इसी विषय पर बोलते हुए लल्लू सिंह ने क्हाः ‘‘कुछ घटनाएं ऐसी होती हैं कि किसी के रोकने से नहीं रूकतीं। थोड़ी सी असावधानी हुई तो फैजाबाद में दंगा हो गया। जितनी संख्या में फोर्स लगती थी इस बार नहीं लगाई गई। शराब की दुकान बन्द होती थी वह बन्द नहीं हुई। हम ने आज तक धर्म की राजनीति नहीं की, हम को क्या फाएदा होगा दंगा कराकर।’’

‘‘इतने दिन राम जन्मभूमि आंदोलन चला। हम ने मुसलमान के खिलाफ कभी कुछ नहीं बोला। हां हम राम की बात करते हैं, करेंगी भी क्योंकि हमारे इष्टदेव हैं। जैसे मुसलमान अपने इष्टदेव की बात करेगा वैसे हिन्दू होने के नाते हम अपने इष्टदेव की बात करेंगे ही। लेकिन हम मुसलमान के खिलाफ नहीं है; न हमको उससे कोई नफरत है। हम लोग भाईचारे के साथ रहें। हमको भी यहीं रहना है उसको भी यहीं रहना है।’’

लल्लू सिंह मानते हैं कि आज सब से ज्यादा मजदूरी का काम करने वाला मुसलमान है। चाहे वह साईकिल बनाने वाला हो या कोई और छोटा काम करने वाला। यह देन किस की है। उनकी शिक्षा की ओर ध्यान क्यों नहीं दिया गया। दूसरी पार्टियां झुनझुना दिखाती रहीं और कुछ दूसरे देश के लोगों ने हमें लड़ाने का काम किया।

उनका मानना है कि यही कारण है कि मुसलमानों ने किसी एक पार्टी को वोट नहीं दिया। सब से उनका मोह भंग हो चुका है। ‘‘मुसलमान कांग्रेस से कहते रहे हम को बचा लो, उन्होंने कोई ध्यान नहीं दिया। इसीलिए मुसलमान ने एकजुट होकर किसी को वोट नहीं दिया। दूसरों को दिया तो कुछ भाजपा को भी दिया। भाजपा को मिले मुसलमान वोट कुछ मोदी के नाम पर आए और कुछ क्षेत्री केंडिडेट के नाम पर आए। लेकिन पश्चिम से पूरब तक एकजुट किसी को भी नहीं मिले। क्योंकि बाकी सब से मोह भंग हो चुका था।’’

Vikas kiya nain phir jhoote vaade kitna saath nibhate

Vikas kiya nain phir jhoote vaade kitna saath nibhate

उन्होंने यह भी क्हा कि केन्द्र में भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार बनने से भय, भूख और भ्रष्टाचार का खात्मा होगा तथा देश विकास की राह पर अग्रसर होगा।

हमने लल्लू सिंह से मोदी नामक सूनामी के बारे में पूछा तो उन्होंने क्हा कि मोदी की लहर तो समूचे देश में थी। उन्होंने क्हाः ‘‘पिछले बहुत दिनों से ऐसे नेता की आवश्यकता थी जो ईमानदार भी हो, दमदार भी हो और उसमें निर्णय लेने की क्षमता भी हो। उस नेता के रूप में मोदी जी दिखाई पड़े इस लिए एकजुट होकर जनता मोदी जी को प्रधानमंत्री बनाने में लग गई और भारी संख्या में भारतीय जनता पार्टी को वोट दिया जिसका परिणाम यह हुआ कि भारतीय जनता पार्टी अकेले ही बहुमत में आ गई, एनडीए की तो संख्या और ज्यादा है। परिवर्तन की लहर पूरे देश में थी। भ्रष्टाचार, महंगाई, कानून व्यवस्था, नवजवानों को रोजगार, विकास, बहुत सारे ऐसे मुद्दे थे जिनके बारे में लोगों को लगता था कि मोदी जी ही सारी समस्याओं का समाधान कर सकते हैं। इसलिए सम्पूर्ण समाज एकजुट हुआ। हिन्दु बहुसंख्यक सामूहिक रूप से हुआ और अल्पसंख्यक में भी जो नवजवान और समझदार लोग हैं वह भी मोदी जी के साथ खड़े हुए। ऐसा इसलिए क्योंकि विकास की चाहत सब की है। सब चाहते हैं कि देश में अमन चैन कायम हो।’’

Faizabad ke ek chowk ki badhaali ki tasveer; photo mein ek mandir bhee dekha ja sakta hai

Faizabad ke ek chowk ki badhaali ki tasveer; photo mein ek mandir bhee dekha ja sakta hai

‘‘कानून सब के लिए बराबर है, इसलिए विकास सब का होना चाहिए,’’ लल्लू सिंह कहते हैं। पूजा पद्धति सब की अलग हो सकती है। परन्तु सब को सम्मान मिलना चाहिए। अपनी अपनी पूजा पद्धति का अधिकार मिलना चाहिए। चाहे हिन्दु हो, मुसलमान हो या ईसाई हो, नाजाएज किसी को लाभ नहीं मिलना चाहिए। दूसरी पार्टियों ने जो काम किया उसके कारण सब से ज्यादा यदि किसी का नुकसान हुआ तो अल्पसंख्यक का हुआ। अलग थलग पड़ गया मुसलमान बाकी समाज से।’’

नरेंद्र मोदी को लेकर जो देश की बड़ी संख्या की जनता की सोच है वही लल्लू सिंह भी सोचते दिखाई देते हैं। उन्हें मोदी से बड़ी उम्मीद है। ‘‘अब सब ठीक हो जाएगा, सब का विकास होगा,’’ वह कहते हैं। ‘‘सब से बड़ी आवश्यकता विकास है।’’ और आगे कहते हैंः ‘‘विकास होगा तो सब को लाभ पहुंचेगा, चाहे हिन्दु हो या मुसलमान। दो साल विकास के एजेंडे पर काम होगा तो जो मुसलमान दूर हैं वह सब भी साथ आ जाएंगे।’’

पर क्या जनता ने जरूरत से ज्यादा उम्मीदें मोदी से नहीं बना रखी हैं, हम ने पूछा? ‘‘ऐसा नहीं है,’’ लल्लू कहते हैं। ‘‘काम न होने का कोई मतलब नहीं। काम नहीं होगा तो जवाब क्यां देंगे? इस व्यक्ति (मोदी) में क्षमता है। वह जरूर करेगा।’’

लल्लू कहते हैं कि यदि दो तीन काम हो जाएं तो जनता की अपेक्षाएं बड़ी मात्रा में पूरी हो जाएंगी। एक भ्रष्टाचार दूर हो। दूसरे, रोजगार मिले नवजवान को और विकास की गाड़ी आगे बढ़ने लगे एवं दिखने लगे तो सब ठीक हो जाएगा।’’

प्रश्न रह गया था फैजाबाद के उत्थान का और राम मंदिर बनाने के भाजपा एजेंडे का। लल्लू कहते हैं कि फैजाबाद में उच्च शिक्षा का अभाव है। चिकित्सा की सुविधाओं की कमी है। कुल मिला कर जो राजनीतिक मुद्दे हों, उसमें राम जन्म भूमि का मुद्दा तो है ही। ‘‘वोट की राजनीति के कारण आज इस में कामयाबी नहीं मिल सकी। इस मुद्दे पर न हिन्दु की ओर से राजनीत होनी चाहिए न मुसलमान की ओर से।’’

लल्लू सिंह राम मंदिर मुद्दे को भी विकास के मुद्दे से जोड़ कर देखते हैं और मानते हैं कि इसको लेकर भाजपा से भूतकाल में कुछ गल्तियां हुई हैं। ‘‘हम ने अटल जी की सरकार में भी लोगों से क्हा था कि यदि सब धार्मिक केन्द्रों का विकास होता है, चाहे मुसलमानों से जुड़े धार्मिक केन्द्र जैसे अजमेर शरीफ और हिन्दुओं से जुड़े धार्मिक केन्द्र, तो मुसलमानों में जो हूक है वह शांत हो जाएगी।’’ अदालत ने भी अयोध्या में राम मंदिर माना है। बहुतेरे मुसलमान मानते हैं कि अयोध्या में मंदिर बनना चाहिए। आवश्यकता है विकास की। मुसलमान का भी विकास होगा तो ईगो समाप्त हो जाएगी। मुसलमान स्वयं मंदिर बनाने में साथ आएंगे। ‘‘हमें लगता है कि एक दो साल में ऐसा हो सकेगा।’’

रियल न्यूज इंटरनेश्नल न्यूज नेटवर्क

image_pdfimage_print

About admin