सांसद जिसने प्रधान मंत्री मोदी की सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत एक गांव सरकारी और चार गांव गैरसरकारी तौर पर विकास के लिए चुने

जहां एक ओर अधिकतर सांसद विकास की गति को गांव गांव तक पहुंचाने हेतु प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की नई स्कीम सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत किसी PhotoLalluSinghएक गांव का चुनाव करने को लेकर परेशानी में पड़े हैं, एक सांसद ऐसा भी है जिसने न केवल सरकारी तौर पर एक ग्राम का चुनाव किया है बल्कि चार ग्राम गैर सरकारी तौर पर चुने हैं जहां वह विकास कार्यों को प्रगति देने का मन बना चुके हैं। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की सांसद आदर्श ग्राम योजना दरअस्ल ग्रामीण विकास और सफाई कार्यक्रम है जहां संसद के प्रत्येक सदस्य को एक गांव को अपनाने और उसके विकास की देखरेख की जिम्मेवारी लेनी है।

मिल्कीपूर विधान सभा क्षेत्र के अमानीगंज ब्लाक में किंदौली वह ग्राम है जिसको फैजाबाद से भाजपा सांसद लल्लू सिंह ने आधिकारिक रूप से चुना है। किन्तु लल्लू सिंह का दावा है कि उन्होंने अनाधिकारिक रूप से चार अन्य गांवों का चुनाव किया है जिनमें वह किंदौली की तर्ज पर ही विकास कार्य को गति देंगे।

अपने इस कदम के कारण का हवाला देते हुए लल्लू सिंह कहते हैंः ‘‘मैं एक जमीनी कार्यकर्ता हूं। मैं अपने क्षेत्र में समाज के तमाम वर्गों के गरीब से गरीब लोगों के साथ सम्बंध बनाए रखता हूं। समूचे क्षेत्र से न्यौता या अंत्येष्टि का समाचार मिलने पर मैं उसमें पहुंचने की कोशिश करता हूं। समाज सेवा, समाज के विभिन्न वर्गों के बीच पहुंच और विकास कार्यों के कारण ही मैं राजनीतिज्ञ बना हुआ हूं। अपने निर्वाचन क्षेत्र से चुए गए प्रतिनिधि होने के कारण मुझे क्षेत्र का विकास तो करना ही है। यदि मैं प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत यही सब कुछ करता हूं तो इससे बेहतर कुछ नहीं।’’ लल्लू सिंह प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की इस नई स्कीम की प्रशंसा करने से नहीं थकते और कहते हैं कि यदि इस स्कीम के तहत हर वर्ष करीब 800 गांवों तक विकास पहुंचता है तो इससे बेहतर और क्या हो सकता है।

लल्लू सिंह कहते हैं कि गैर सरकारी रूप में अपनाए गए चारों गांव के विकास के लिए यदि उन्हें कोलकता, मुम्बई, दिल्ली आदि में जाकर सम्पन्न उद्योगपतियों से भीख भी मांगनी पड़ी तो वह करेंगे।

पांच वर्ष की आयु से आर एस एस से जुड़ जाने का दावा करने वाले लल्लू सिंह तमाम समुदायों और जातियों में लोकप्रिय हैं। उनका मानना है कि आज वह जिस मकाम पर हैं उसका श्रेय आर एस एस को जाता है।

रिपोर्ट मिली हैं कि कुछ लोकसभा सांसद एमपीएलएडी योजना जिसके तहत प्रधान मंत्री की महत्वकांशी सांसद आदर्श ग्राम योजना आती है के तहत अब तक मिलने वाले वार्षिक 5 करोड़ रूप्ये में बढ़ौतरी की मांग कर रहे हैं। कुछ सांसद तो एमपीएलएडी योजना के तहत मिलने वाले धन का सदुपयोग कर पाने में ने केवल नाकाम रहे हैं बल्कि एक गांव को अपनाने के लिए भी तैयार नहीं हैं। बहस चल पड़ी है कि अपने कार्यक्षेत्र में सही काम न करने वाले जन प्रतिनिधियों के कार्यों को जनता के सामने नग्न किया जाना चाहिए।

आर एन आई न्यूज नेटवर्क

image_pdfimage_print

About admin